Read Home » हिंदी लेख पढ़ें » करियर » प्रोफेशनल ही नहीं बल्कि पर्सनल लाइफ के लिए भी जरूरी है ये 5 सॉफ्ट स्किल (Soft skills are essential for life)

प्रोफेशनल ही नहीं बल्कि पर्सनल लाइफ के लिए भी जरूरी है ये 5 सॉफ्ट स्किल (Soft skills are essential for life)

  • द्वारा
सॉफ्ट स्किल

हमारी सफलता में सॉफ्ट स्किल बेहद मायने रखता है, लेकिन इसके बावजूद भी लोग इसके बारे में काफी कम जानते हैं। सॉफ्ट स्किल एक व्यापक क्षेत्र है जिसमें सम्प्रेषण कौशल, श्रवण कौशल, टीम कौशल, नेतृत्व के गुण, सृजनात्मकता और तर्कसंगति, समस्या निवारण कौशल तथा परिवर्तनशीलता आदि सम्मिलित हैं। ये बात तो सच है कि हम सभी में चरित्र लक्षण और पारस्परिक कौशल हैं जो किसी व्यक्ति के अन्य लोगों के साथ संबंधों को चिह्नित करते हैं। लेकिन अगर इसका प्रयोग हम सही से न करें तो यह प्रभावशाली छवि का निर्माण नहीं कर पाता है। सॉफ्ट स्किल सामान्यतः गुण-स्वरुप होते हैं और इन्हें पुस्तकों से नहीं सीखा जा सकता। इसके लिए आपको एक पेशेवर ट्रेनर की आवश्यकता होती है।

सॉफ्ट स्किल कितना है जरूरी

जितना जरूरी यह है कि जितना की आपका किसी काम में दक्ष होना, उससे भी अधिक महत्वपूर्ण यह भी है कि आपके अंदर की सॉफ्ट स्किल्स कैसी है ? इसे ऐसे समझ सकते हैं कि यह एक अच्छा इमोशनल इंटेलिजेंस आपको भीड़ से अलग करता है। अक्सर लोग उन लोगों को तुरंत रिस्पॉन्ड करते हैं, जो प्रभावी ढंग से संवाद करते हैं। आज आपको ऐसी 5 सॉफ्ट स्किल्स के बारे में बताने जा रही हूं जो न सिर्फ आपकी प्रोफेशनल लाइफ में, बल्कि पर्सनल लाइफ में भी आपकी, लोगों से तालमेल बैठाने में मदद करेंगी।

कम्युनिकेशन स्किल्स

पहला व सबसे अहम स्किल्स में यह आता है जो कि आपके करियर के हर पहलू में मायने रखता है, क्योंकि एक अच्छे संवाद से आपको कई तरह के फायदे देखने को मिलते हैं वो चाहे आपको अपने वरिष्ठ अधिकारी से बात करनी हो या अपने सहकर्मियों से। सही जगह पर सही भाषा का चुनाव जरूरी है। इस दौरान यह ध्यान रखना होता है कि आपके उच्चारण सही हों, कहां पर टोन ऊंची व कहां पर नीची हो, इसका ध्यान रखें और अपनी बात को आत्मविश्वास से कहें।

आखों का संपर्क

दूसरा स्किल होता है आई कॉन्टेक्ट, जी हां जब भी किसी से बात करें तो उनकी तरफ देखकर ही बात करें, क्योंकि चेहरे के हावभाव और आंखें भी बहुत कुछ कह जाती हैं। दूसरे के चेहरे और आंखों से आप उनकी बातों के साथ-साथ उनकी भावनाओं को भी बेहतर समझ पाएंगे।

ध्यान देकर सुनना

अगर आप किसी से बात कर रहे हैं तो यह भी ध्यान रहे कि आप सामने वाले की बात को भी ध्यान देकर सुनें। क्योंकि उसे यह नहीं लगना चाहिए कि आपको उनकी बातों में रुचि नहीं है। दूसरों को ध्यान से सुन व समझकर ही अपनी राय दें जिससे कि वे दुबारा भी आपसे बात करने आएं।

मोटिवेटर

यह बेहद जरूरी चीज है इसलिए घर में या बाहर दूसरों से बात करते हुए सकारात्मक नजरिया रखिए। उन्हें हमेशा उत्साहित करने का प्रयास कीजिए जिससे कि आपसे बात करने के बाद वे मन से हल्का महसूस करें और ऊर्जावान बनकर दुबारा अपने काम में जुट पाएं। अच्छे लीडर अपने साथियों को यह नहीं बताते कि उन्हें क्या करना चाहिए, बल्कि उन्हें उनका सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने के लिए प्रेरित करते हैं।

सौंपना

सबसे आखिरी व पांचवा स्किल्स है डेलिगेशन, चाहे आप अपने घर के जिम्मेदार व्यक्ति हों या फिर किसी ऑफिस में उच्च पद पर हों आप पर जिम्मेदारी भी अधिक होगी। ऐसे में अगर अपने सभी काम और चीजों से आप पसेसिव रहेंगे और किसी से कुछ बांटना नहीं चाहेंगे, उस स्थिति में आशंका यही है कि आप कोई भी कार्य ठीक से नहीं कर पाएंगे। कार्य को दूसरों को सौंपने की उदारता आप में होनी चाहिए जिससे कि आप दूसरे जरूरी कामों में अपना समय दे पाएं और आपके साथी सदस्य भी जिम्मेदारी लेना और नए काम सीख पाएं।

पेशेवर सॉफ्ट स्किल ट्रेनर से संपर्क करने के लिए यहां क्लिक करेंं

आप हमारे नेटवर्क पर मौजूद पेशेवर सुकन्या से संपर्क कर सकते हैं, यह एक प्रमाणित सॉफ्ट स्किल ट्रेनर होने के साथ साथ प्रेरणादायी वक्ता भी हैं। इन्हें सॉफ्ट स्किल ट्रेनर के रूप में 10 सालों का अनुभव प्राप्त है। यह BOSCH और MEPSC द्वारा एक प्रमाणित हैं। इसके अलावा यह एक प्रमाणित POSH ट्रेनर और एनएलपी प्रैक्टिशनर भी है। इन्होने अपने प्रशिक्षणों के साथ जीवन के अनुभवों को महसूस किया है जिसकी वजह से इनके अंदर सकारात्म प्रभाव का जन्म हुआ।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *