Read Home » हिंदी लेख पढ़ें » कल्याण और आध्यात्मिकता » घर में बाल गोपाल रखते हैं तो इन बातों का रखें ध्यान (Rituals For Worshiping Bal Gopal)

घर में बाल गोपाल रखते हैं तो इन बातों का रखें ध्यान (Rituals For Worshiping Bal Gopal)

  • द्वारा
घर में बाल गोपाल रखते हैं तो इन बातों का रखें ध्यान (Rituals For Worshiping Bal Gopal)

कई लोग अपने घर पर देवी-देवताओं की पूजा के अलावा भगवान कृष्ण के बाल स्वरूप यानी बाल गोपाल की भी पूजा करते हैं। जिन्हें लड्डू गोपाल कहा जाता है। लड्डू गोपाल (बाल गोपाल) की पूजा के साथ उनकी सेवा एक छोटे बच्चे जैसे की जाती है। लड्डू गोपाल परिवार के सदस्य की तरह होते हैं। उनकी सेवा में वह सबकुछ करना होता है जो एक मां अपने छोटे के लिए करती है, बच्चे को सुबह उठाने से लेकर रात को सुलाने तक की पूरी देखभाल। लड्डू गोपाल (बाल गोपाल) की पूजा से घर की सभी परेशानियां दूर हो सकती हैं। उनके प्रसन्न होने से व्यक्ति का मन बहुत प्रसन्न रहता है।

जिस घर में लड्डू गोपाल होते हैं वह घर उनका हो जाता है, इसलिए मेरा घर का भाव मन में नहीं होना चाहिए। उन्हें किसी विशेष ताम झाम की नहीं आपके प्रेम की भूख होती है, उनको जितना प्रेम जितना भाव अर्पित किया जाता है वह उतने आपके अपने होते हैं। घर में उनकी पूजा कैसे करनी चाहिए या उनकी देखभाल करते समय क्या-क्या सावधानियां बरतनी चाहिए जानिये इस आर्टिकल में।

  • उन्हें एक प्यारा सा नाम दें
  • सुबह जल्दी उठने के बाद सबसे पहले बाल गोपाल की पूजा करें और भोग लगाएं
  • पूजा में प्रयोग की जाने वाली सभी सामग्रियों का शुद्ध होना जरूर है
  • बाल गोपाल को साफ जल और गंगाजल से हर रोज़ स्नान कराएं, लेकिन इस बात का विशेष ध्यान रखें कि जिस तरह घर का कोई सदस्य सर्दी में गर्म पानी और गर्मी में ठन्डे पानी से स्नान करता है, उसी तरह लड्डू गोपाल के स्नान के लिए मौसम के अनुसार पानी लें
  • स्नान करवाने के बाद चंदन का टीका लगाएं
  • बाल गोपाल के कपड़ों को रोजाना बदलें
  • दिन के अनुसार अलग-अलग रंग वाले कपड़े ही पहनाएं, सोमवार को सफेद, मंगलवार को लाल, बुधवार को हरा, गुरुवार को पीला, शुक्रवार को नारंगी, शनिवार को नीला और रविवार को लाल कपड़ा और उन्हें मौसम के अनुसार कपडे पहनाएं
  • उनके श्रृंगार में कान की बाली, कलाई में कड़ा, हाथों में बांसुरी और मोरपंख जरूर हो
  • श्रृंगार के बाद सबसे पहले भगवान गणेश की आरती करें फिर लड्डू गोपाल की
  • जिस तरह हमें भूख लगती है उसी प्रकार लड्डू गोपाल को भी भूख लगती है, उनके भोजन का ध्यान रखें, भोजन के अतिरिक्त, सुबह का नाश्ता और शाम के चाय नाश्ते आदि का भी ध्यान रखे
  • लड्डू गोपाल के भोग में मक्खन, मिश्री और तुलसी जरूर शामिल करें
  • इस बात का विशेष ध्यान रखें की घर में कोई भी खाने की वस्तु आए लड्डू गोपाल जी को हिस्सा भी उसमे अवश्ये होना चाहिए
  • आरती के बाद अपने हाथों से उन्हें भोग लगाएं, झूला झूलाएं और फिर झूले में लगे परदे को लगाना ना भूलें
  • सुबह और शाम के समय लड्डू गोपाल की आरती और भोग लगाना जरूरी होता है
  • लड्डू गोपाल जी खिलौने बहुत प्रिये हैं उनके लिए खिलौने अवश्ये लेकर आएं और उनके साथ खेलें भी
  • लड्डू गोपाल जी को समय-समय पर बाहर घुमाने लेकर जाएं
  • शुभ अवसर और त्योहार पर उन्हें नए कपड़े और पकवान का भोग जरूर लगाएं
  • बाल गोपाल की पूजा और भोग लगाएं बिना खाना नहीं खाना चाहिए
  • घर में बाल गोपाल हैं तो मांस-मदिरा का सेवन, गलत व्यवहार और अधार्मिक कार्य नहीं करने चाहिए
  • रात को बाल गोपाल को सुलाने के बाद ही सोएं और सुबह प्रेम से पुकार कर उन्हें उठाएं
  • होली, दीपावली और जन्माष्टमी जैस प्रमुख त्योहार में इनकी विशेष रूप से पूजा करें

ऐसे तो हर साल जन्माष्टमी पर लड्डू गोपाल की पूजा धूम-धाम से होती है, लेकीजन अगर आपको वह तिथि पता है जिस दिन लड्डू गोपाल ने घर में प्रवेश किया तो उस दिन हर साल लड्डू गोपाल के जन्म दिन के रूप में मनायें, जैसे आप घर के हर सदस्य का मनाते हैं। बच्चों को घर बुला कर उनके साथ बाल गोपाल का जन्म दिन मनायें और बच्चों को खिलौने दें। ऐसे तो और भी बहुत कुछ है जो भक्त अपनी श्रद्धा के अनुसार करते हैं, लेकिन अगर इन बातों पर ध्यान दिया जाए तो लड्डू गोपाल जी को आसानी से प्रसन्न किया जा सकता है।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *