Read Home » हिंदी लेख पढ़ें » स्वास्थ्य और तंदुस्र्स्ती » National Nutrition Week: कैसी होनी चाहिए वर्किंग वुमेन की डायट?| How should the working woman’s diet be?

National Nutrition Week: कैसी होनी चाहिए वर्किंग वुमेन की डायट?| How should the working woman’s diet be?

  • द्वारा
वर्किंग वुमेन

आज के समय में महिला हो या पुरूष हर कोई जॉब करता है। लेकिन पुरूषों की अपेक्षा महिलाओं को अपने शारीरिक स्वास्थ पर विशेष रूप से ध्यान देना होता है क्योंकि उनपर न सिर्फ ऑफिस की जिम्मेदारी होती है बल्कि घर का बोझ भी उनपर होता है। ये पूरा सप्ताह भारत में राष्ट्रीय पोषण सप्ताह National Nutrition Week के रूप में मनाया जा रहा है, इस दौरान लोगों को हेल्दी फूड्स और उनके प्रभावों के बारे में जागरूक किया जा रहा है। इस दौरान हम कामकाजी या वर्किंग वुमेन के लिए को विशेष पोषक तत्वों की आवश्यकता भी होती है, क्योंकि उनकी लाइफ और स्वास्थ्य परिस्थितियों में हमेशा बदलाव होते रहते हैं। इसलिए आज हम आपको विशेष रूप में कैसा होना चाहिए वर्किंग वुमेन का डायट चार्ट?

वर्किंग वुमेन का डायट चार्ट

सही खाएं

सबसे पहले ये जरूरी है कि आप जो खा रहे हैं वो सही होना चाहिए, कोशिश करें कि पोषक तत्वों से भरपूर खाद्य पदार्थ महिलाओं के व्यस्त जीवन में ऊर्जा के सोर्स होते हैं। हेल्दी खानपान उन्हें बीमारियों से बचाने में मदद करते हैं। अगर आप भी वर्किंग वुमेन हैं तो आप अपने डायट में इन्हें जरूर शामिल करें-

साबुत अनाज
रोटी
साबुत गेहूं
पास्ता
ब्राउन राइस
दूध, दही या पनीर
कम वसा वाले या वसा रहित डेयरी उत्पाद
कैल्शियम-फोर्टिफाइड आधारित खाद्य पदार्थ

यह भी पढ़ें : Nutrition Week: कोरोना कहर में पोषण बनी बड़ी समस्या, इम्युनिटी के लिए दें इन बातों पर ध्यान (Nutrition remains a major problem in Covid-19)

वर्किंग वुमेन के डायट में प्रोटीन

वर्किंग वुमेन अपने डायट में प्रोटीन को विशेष महत्व दें इसके लिए वो अपने डायट में इन्हें शामिल करें

जैसे लीन मीट, सी फूड, अंडे, सेम, मसूर, टोफू, नट, फलों का जूस, हरी सब्जियां

इसके अलावा महिलाओं के अपने डायट में आयरन जरूरी शामिल करने चाहिए, क्योंकि माहावारी के दौरान महिलाओं में आयरन अच्छे स्वास्थ्य और ऊर्जा की कुंजी है। आयरन प्रदान करने वाले आहार में आप चाहे तो रेड मीट, चिकन, टर्की, पोर्क, मछली, केल, पालक, बींस, दाल और कुछ फोर्टिफाइड रेडी-टू-ईट अनाज शामिल करते हैं। विटामिन सी युक्त खाद्य पदार्थों के साथ आयरन लोडेड खाद्य पदार्थों का सवेन करने से शरीर इन्हें जल्दी ग्रहण कर लेता है।

कैल्शियम और विटामिन डी

कैल्शियम, मजबूत हड्डियों व दातों के लिए बेहद आवश्यक होता है। कैल्शियम हड्डियों को मजबूत रखता है और ऑस्टियोपोरोसिस के लिए जोखिम को कम करने में मदद करता है। ऑस्टियोपोरोसिस एक हड्डी रोग है जिसमें हड्डियां कमजोर हो जाती हैं और आसानी से टूट जाती हैं। वर्किंग वीमेन डायट में कैल्शियम और विटामिन को जरूर शामिल करें। कुछ कैल्शियम युक्त खाद्य पदार्थ जैसे कम वसा या वसा रहित दूध, दही और पनीर, सार्डिन, टोफू और कैल्शियम-फोर्टिफाइड खाद्य पदार्थ शामिल हैं।

यह भी पढ़ें : राष्ट्रीय पोषण सप्ताह: ये बातें जानना है जरूरी| National Nutrition Week: These Things To Know

कैलोरी को करें संतुलित

अक्सर आपने गौर किया होगा तो महिलाओं में फैट की समस्या ज्यादा पाई जाती है इसलिए महिलाओं को अपने हेल्थ और वेट के लेवल को बैलेंस रखने के लिए कम कैलोरी की आवश्यकता होती है। यानि की जिन महिलाओं की उम्र 30 से उपर है उनपर पर ज्यादा शारीरिक वर्क लोड होता है या जिन्हें काम के सिलसिले में ज्यादा भाग दौड़ करनी पड़ती है उन्हें अधिक कैलोरी की आवश्यकता हो सकती है।

खूब पानी पिएं

कोशिश करें कि पानी पर्याप्त मात्रा में पिएं, क्योंकि इससे शरीर डीटॉक्स होता रहता है। हमारी कोशिकाओं, अंगों और जोड़ों को ठीक से काम करने के लिए पानी की आवश्यकता होती है। खासकर कामकाजी महिलाओं को हमेशा अपने डेस्‍क पर पानी की बॉटल भर के रखना चाहिए और पानी पीने में कभी भी आना कानी नहीं करनी चाहिए। दिन भर में कम से कम 10 गिलास पानी पिएं।

Spark.live पर मौजूद आहार व पोषण विशेषज्ञ से करें संपर्क

अगर आप भी वजन घटाना चाहते हैं या फिर अपनी दैनिक आहार में बदलाव लाना चाहते हैं तो आप हमारे नेटवर्क Spark.Live पर मौजूद आहार व पोषण विशेषज्ञ मीनल गड़ा से संपर्क कर सकते हैं जो आपकी शारीरिक जरूरत के अनुसार एक बेहतरीन डाइट चार्ट बनाने के साथ ही साथ आवश्यकतानुसार आपकी दैनिक रूटीन में भी कुछ बदलाव करने की सलाह देंगे।

संदर्भ लेख : महिलाओं का स्वास्थ्य व पोषण

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *