Read Home » हिंदी लेख पढ़ें » कल्याण और आध्यात्मिकता » वैदिक ज्योतिष से जानें ग्रहों को मनाने का सबसे सरल उपाय

वैदिक ज्योतिष से जानें ग्रहों को मनाने का सबसे सरल उपाय

  • द्वारा
वैदिक ज्योतिष

ज्योतिष का क्षेत्र काफी विस्तृत है, इसमें भी कई श्रेणियां हैं जैसे अंकशास्त्र, रत्नशास्त्र, टैरो कार्ड रीडिंग, फेस रीडिंग अन्य सभी अपने आप में विशेष हैं। लेकिन आज हम आपको वैदिक ज्योतिष की विस्तृत जानकारी देने जा रहे हैं। हालांकि वैदिक ज्योतिष खुद में ही एक बड़ा क्षेत्र है यह पूरी तरह से ग्रह, नक्षत्र व राशियों के बारे में बताएंगे।

वैदिक ज्योतिष में 9 ग्रह हैं जिन्हें नवग्रह कहा जाता है। इसमें सूर्य और चंद्रमा को भी ग्रह माना जाता है। इसके अलावा मंगल, बुध, बृहस्पति, शुक्र, शनि और राहु-केतु भी इनमें शामिल हैं। हालाँकि राहु और केतु ग्रह को छाया ग्रह कहा जाता है। ग्रहों का हमारे जीवन पर गहरा प्रभाव पड़ता है।ज्योतिष के इस क्षेत्र में ग्रहों दोषों को दूर करने के लिए और उनकी शुभता प्राप्त करने के लिए इसमें कई उपाय बताए गए हैं। हालांकि ये जरूरी नहीं है कि ग्रहों को मनाने के लिए हमेशा महंगे रत्नों के जरिए उपाय किया जाए।

जो उपाय वैदिक ज्योतिष में बताया गया है उसे सामान्य जिंदगी में अपनाकर आप अपने जिंदगी में बदलाव ला सकते हैं। चाहे ये उपाय अपने संबंधियों के साथ अच्छा व्यवहार करने का हो या फिर खाने पीने की चीजों का दान करने का हो। आज हम आपको कुछ कुछ ऐसी चीजों के बारे में बताएंगे जिन्हें अपने जीवन में अपनाने से ग्रहों की शुभता मिलेगी।

यह भी पढ़ें : कब है देवशयनी एकादशी, इस बार मांगलिक कार्यों पर 5 महीनों की रोक

वैदिक ज्योतिष से जानें 9 ग्रहों के शुभता का उपाय

सूर्य

सबसे पहले बात करते हैं सूर्य देव की तो इनकी शुभता बढ़ाने और इनकी नाराजगी दूर करने के लिए ध्यान रहे कि आप किसी से कभी झूठ न बोलें। इस उपाय को करने से आपके जीवन में सूर्य से संबंधी सभी दोष दूर हो जाएंगे और उनके शुभ फल मिलने प्रारंभ हो जाएंगे। वैदिक ज्योतिष का मानना है कि व्यक्ति के झूठ बोलने से उसकी कुंडली से जुड़े सूर्य को उसका अस्तित्व पैदा करना पड़ेगा। ऐसे में सूर्य का काम बढ़ जाएगा और आपके संकट कम होने के बजाय बढ़ जायेंगे।

चंद्रमा

अब बात करें चंद्र देव की तो इनकी शुभता पाने और उनसे जुड़े दोष दूर करने के लिए आपको साफ सफाई का ध्यान काफी रखना पड़ता है। यही नहीं आप अपने आस-पास की साफ-सफाई रखें, बल्कि स्वयं भी साफ-सुथरे रहें और स्वच्छ कपड़े पहनें। ऐसा करने से इस उपाय से निश्चित रूप से चंद्र देव की कृपा मिलने लगेगी।

मंगल

सूर्य का सेना पति है मंगल ग्रह जिसे हमारे भोजन में गुड़ का स्वरूप माना जाता है जबकि गेहूं सूर्य का प्रतीक है। मंगल ग्रह की कृपा पाने के लिए रविवार के दिन को गेहूं के आटे का चूरमा गुड़ डालकर बनाकर खाएं और दूसरों को भी खिलाएं। इस उपाय से मंगल देवता प्रसन्न होंगे।

बुध

हरा रंग बुध ग्रह के लिए होता है, वो नौ ग्रहों में शारीरिक रूप से सबसे कमजोर और बौद्धिक रूप में सबसे आगे होता है। बुध ग्रह की शुभता पाने और उससे जुड़े दोष को दूर करने के लिए गाय को हरी घास खिलाना चाहिए। ज्योतिषियों का मानना है कि पृथ्वी और गाय दोनों ही शुक्र ग्रह का प्रतिनिधित्व करते हैं, जबकि हरी घास बुध ग्रह का प्रतिनिधित्व करती है। आप तो जानते ही हैं कि अन्य पेड़ पौधों के मुकाबले घास कमजोर है। बिल्कुल वैसे ही, जैसे अन्य ग्रहों के मुकाबले बुध ग्रह कमजोर है।

बृहस्पति

बृहस्पति को प्रसन्न करने के लिए तोते को चने की दाल खिलाने का उपाय काफी कारगर साबित होता है क्योंकि तोता बुध ग्रह का प्रतीक है और चने की दाल बृहस्पति ग्रह का। ध्यान रहे कि आप यह उपाय करेंगे तो बुध स्वरूप तोता चने की दाल खाकर पेट भरेगा और खुश होगा तो बृहस्पति अपने आप प्रसन्न हो जाएंगे और आप पर अपनी कृपा बरसायेंगे।

शुक्र

यदि आप शुक्र ग्रह के दोष से पीड़ित हैं तो आपको गाय को रोटी खिलाना चाहिए। ऐसा इसलिए क्योंकि सूर्य गेहूं है और शुक्र गाय है। जब आप उसके शत्रु सूर्य यानी गेहूं को गाय यानी शुक्र को खिलाएंगे तो निश्चित रूप से उनका गुस्सा खत्म हो जाएगा और आप पर उनकी कृपा बरसनी शुरु हो जायेगी।

शनि

शनि न्याय के देवता व श्रम के पुजारी हैं। ऐसे में यदि हम किसी मेहनत-मजदूरी करने वाले को तन, मन और धन से उचित सम्मान प्रदान करते हैं, उसकी मदद करते हैं तो शनिदेव प्रसन्न होंगे। उनकी कृपा से वो सभी दोष दूर हो जाएंगे।

राहू

राहु छाया ग्रह है, जो भोज देने से बहुत जल्दी शांत होता है। ऐसे में यदि आप राहु से संबंधित व्यक्ति जैसे कुष्ठ रोगी, निर्धन व्यक्ति, सफाई कर्मचारी आदि को भोजन आदि देकर प्रसन्न करते हैं तो आपको राहु की कृपा अवश्य मिलेगी।

यह भी पढ़ें : सावन में इस विधि से करें भगवान शिव की पूजा, मिलेगा मनचाहा वर

केतु

केतु ग्रह के दोष के कारण अक्सर व्यक्ति भ्रम का शिकार होता है। जिसके कारण उसे तमाम परेशानियां झेलनी पड़ती है। केतु के दुष्प्रभाव से बचने के लिए सबसे पहले आप अपने बड़े-बुजुर्ग की सेवा करना प्रारंभ कर दें। साथ ही कुत्ते को मीठी रोटी खिलाएं।

पाएं ज्योतिष संबंधी अपनी हर समस्या का समाधान

वैदिक ज्योतिष

Spark.live नेटवर्क पर मौजूद तमाम विशेषज्ञों में से एक हैं ज्योतिष विशेषज्ञ डॉ एस. के. जैन जिन्हें पिछले ४५ वर्षों का अनुभव प्राप्त है। इनकी वजह से लोग इनसे काफी लाभान्वित हुए है। डॉ एस. के. जैन प्रेम विवाह समस्या, करियर से जुड़ी भविष्यवाणी, क्रिकेट संबंधित भविष्यवाणी, वास्तु शास्त्र, चेहरा पढ़ने और स्वास्थ्य समस्याओं के समाधान के लिए जाने जाते हैं।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *