Read Home » हिंदी लेख पढ़ें » Featured » मशहूर गायिका सुमिता दत्ता से जानिए संगीत के जरिए कैसे मिलेगी मानसिक शांति

मशहूर गायिका सुमिता दत्ता से जानिए संगीत के जरिए कैसे मिलेगी मानसिक शांति

  • द्वारा
मानसिक शांति

आंतरिक शांति जिसे लोग मानसिक शांति भी कहते हैं। गौर करने वाली बात तो यह है कि आज के समय में हर कोई इसे ढ़ूंढ़ता है लेकिन इतनी आसानी से मानसिक शांति नहीं मिल पाती है। बेहद ही मुश्किल से मन के अंदर इस तरह की स्थिति का जन्म होता है, इसलिए कहा जाता है कि इस उपलब्धि को हासिल कर पाना इतना भी आसान नहीं है। लेकिन कुछ ऐसे माध्यम हैं जो आपको मानसिक शांति प्रदान करने में मदद करते हैं, जिनमें से एक संगीत भी है।

इस समय जो दौर चल रहा है उसके अनुरूप हर किसी को मानसिक शांति की आवश्यकता है, चाहे बच्चा हो, बड़ा हो या फिर बुढ़ा लॉकडाउन में दिनभर घर में रहने के कारण गुस्सा और तनाव बढ़ता ही जा रहा हैं। हम सभी मानसिक शांति पाने के लिए संगीत को अपना सकते हैं। क्योंकि संगीत मनुष्य में प्रेम, दया, नैतिक अनुशासन व सौहार्द की भावना का विकास करता है। संगीत मानवीय संवेदनाओं को व्यक्त करने का अनुपम माध्यम है।

वैज्ञानिकों का भी कहना है कि संगीत आपको निर्वाण की स्थिति में पहुंचाता है। आप सोच रहे होंगे कि भला ये कैसे ? दरअसल अच्छा संगीत सुनने से आपकी बॉडी में सेरोटोनिन, डोपामाइन, ऑक्सीटोसिन और एंडोर्फिन जैसे हैप्पी हार्मोन का स्राव होने लगता है। यही कारण है कि संगीत थैरेपी सर्वोत्तम माना गया है। संगीत में मन को एकाग्र करने की अलौकिक शक्ति निहित होती है। यह हमारे मन को स्वस्थ रखता है और जब मन स्वस्थ तो अनेक बीमारियों पर स्वत: नियंत्रण हो जाता है।

मशहूर गायिका सुमिता दत्ता ने भी संगीत के जरिए मानसिक शांति प्रदान करने का एक छोटा सा प्रयास किया है, इनके द्वारा आयोजित किए गए मेडिटेटिव म्यूजिक वर्कशॉप में आप भी भाग ले सकते हैं। इस मेडिटेटिव वर्कशॉप से जुड़े तमाम सवालों के जवाब पाने के लिए हमने सुमिता दत्ता से साक्षात्कार लिया जिसमें उन्होंने उन सभी सवालों के जवाब दिए जिसे सुनकर आपके मन की आशंकाएं दूर हो जाएंगी और आप खुद ही इस वर्कशॉप में भाग लेने के लिए इच्छुक होंगे।

प्रश्न : मेडिटेटिव वर्कशॉप में लोग आपसे क्या-क्या सीखेंगे ?

उत्तर: सुमिता दत्ता द्वारा संयोजित इस मेडिटेटिव वर्कशॉप से जुड़कर लोग सबसे पहले स्वरों द्वारा ध्यान लगाना सीखेंगे, कुछ मंत्र भी सिखाए जाएंगे जो हमारे जीवन से जुड़े हुए हैं, कुछ कबीर के दोहे व उनके अर्थ भी बताए जाएंगे जो आपकी जिंदगी से काफी हद तक जुड़ें हुए हैं।
खास बात तो यह है कि इन सभी चीजों का ज्ञान धुन के साथ दिया जाएगा।

प्रश्न : इस मेडिटेटिव वर्कशॉप से लोगों को कितना होगा फायदा?

उत्तर: सुमिता दत्ता बताती हैं कि इस मेडिटेटिव वर्कशॉप का उद्देश्य ही है लोगों को मानसिक शांति प्रदान करना। अगर लोग इसे समझ के साथ अटेंड करेंगे तो निश्चित रूप से उनकी सोच में बदलाव आएगा व साथ ही साथ मानसिक शांति भी प्राप्त होगा।

प्रश्न : संगीत हमारे जीवन पर कैसे प्रभाव डालता है?

उत्तर: संगीत का हमारे मन मस्तिष्क व दिमाग पर काफी गहरा असर पड़ता है। लगातार संगीत सुनने से व्यक्ति के जीवन पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है। संगीत सुनने से मूड अच्छा हो जाता है। सुमिता दत्ता जी कहती है कि संगीत सुनने से तनाव कम होता है और थकान भी दूर हो जाता है।

प्रश्न : हमारे मानसिक स्वास्थ के लिए संगीत कितना लाभकारी है

उत्तर: सुमिता दत्ता जी बताती है कि म्यूजिक थेरेपी से कई रोगों का इलाज संभव है। ऐसे में अगर बात करें मानसिक विकारों को दूर करने की तो इसमें म्यूजिक की अहम भुमिका होती है।

प्रश्न : लॉकडाउन में ये वर्कशॉप हमें किस हद मानसिक शांति प्रदान करने में मदद करेगा ?

उत्तर: लॉकडाउन में सभी परेशान हैं हर कोई एक ही दिनचर्या को फॉलो कर अपनी जिंदगी से बोर हो गया है। सुमिता दत्ता का मानना है कि इस मेडिटेटिव वर्कशॉप से जुड़ने से लोगों का मन शांति की तरफ जाएगा, जिससे वो काफी हल्का महसूस करेंगे।

सुमिता दत्ता के वर्कशॉप से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *