Read Home » हिंदी लेख पढ़ें » प्रेरणा » रविकांत कुमार से जानें जीवन में कब पड़ती है मोटिवेशनल स्पीकर की आवश्यकता?

रविकांत कुमार से जानें जीवन में कब पड़ती है मोटिवेशनल स्पीकर की आवश्यकता?

  • द्वारा
मोटिवेशनल स्पीकर

कई बार हम देखते हैं कि कोई व्यक्ति किसी मुश्किल समस्याओं से जूझ रहा है लेकिन उस समय यदि उसका कोई मार्गदर्शन कर दें तो वह अपने जीवन को नई दिशा दे सकता है। आज के समय में यह काम मोटिवेशनल स्पीकर कर रहे हैं। मोटिवेशनल स्पीकर की जीवन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं क्योंकि इनसे कई लोगों का जीवन बदला है। मोटिवेशन का मतलब है प्रेरणा से भर देना है अर्थात व्यक्ति के वाक्य जिनसे हम निराशा ओं की जगह आशाओं की राह पर चल सके, आशाओं की विचार ला सकें, जीवन में आशा को संचालित कर सकें।

आज हम इस लेख में एक अनुभवी मोटिवेशनल स्पीकर के बारे में बताएंगे साथ ही उनसे लिए साक्षात्कार भी प्रस्तुत करेंगे। ये साक्षात्कार मोटिवेशन स्पीकर को लेकर आपके मन में आ रहे सभी शंकाओं को दूर कर देगा, इसके अलावा यह भी बताएगा कि आखिर हमारे जीवन में इनका कितना महत्व है।

मोटिवेशनल स्पीकर रवीकांत कुमार जो कि एक अनुभवी विशेषज्ञ हैं, इन्होने कई लोगों के जिंदगी समस्याओं को सुलझाया है। इनकी बातों से कई लोग प्रेरित भी हुए हैं। पढ़ाई-लिखाई हो या फिर कामकाज या रिश्ते-नाते किसी भी तरह की समस्याओं में यह आपकी मदद करने के लिए तैयार हैं। रविकांत जी को बेहतरीन प्रेरक वक्ता मानने का एक खास वजह यह भी है कि ये आपकी समस्याओं को सुलझाते समय आपसे बातचीत के दौरान कई प्रेरणादायक कहानियों से भी रुबरू कराते हैं जिसे सुनकर आपका आत्मविश्वास लौट आएगा।

रविकांत से संपर्क करने के लिए यहां क्लिक करें

रविकांत जी से साक्षात्कार में पूछे गए सवाल जवाब

प्रश्न : मोटिवेशनल स्पीकर की जीवन में क्या होती है भूमिका ?

उत्तर: मोटिवेशनल स्पीकर अंदर की पॉजिटिव एनर्जी को बढ़ाता है, जिसकी वजह से जीवन की किसी भी समस्याओं के समाधान में सही दिशा निर्देश पर चलने की क्षमता आती है। रवीकांत जी कहते हैं कि कर्म कर फल की चिंता मत कर लेकिन कर्म तो एक खिलाड़ी व भिखारी भी करता है। लेकिन कर्म आपके जीवन के लक्ष्यों को प्राप्त करने का मार्ग है चाहे जो भी क्षेत्र हो पढाई, नौकरी या फिर रिलेशनशिप। मोटिवेशनल स्पीकर का मुख्य काम लोगों को इंस्पायर करना व अपने लक्ष्यों को पूरा करने के लिए उनमें एक नया जोश भरना होता है ताकि लोग अपनी सफलता की दिशा में कदम बढ़ा सकें।

प्रश्न : जीवन के किस मोड़ पर पड़ती है आध्यात्मिक सलाह आवश्यकता ?

उत्तर: जीवन काफी लंबा होता है और इसमें ऐसे कई मोड़ आते हैं जहां पर आपको आध्यात्मिक सलाह की आवश्यकता होती है। आध्यात्म हमें एक अच्छा इंसान बनने में मदद करता है, जीवन में शांति प्रदान करता है खासकर तब जब हम किसी तरह की डिप्रेशन, चिंता, तनाव से गुजर रहे होते हैं तो उस समय आध्यात्मिक सलाह की आवश्यकता एक दवा के रूप में काम करता है।

प्रश्न : एक अच्छे प्रेरक वक्ता बनने के लिए किन गुणों का होना है जरूरी ?

उत्तर: रवीकांत जी का मानना है कि एक अच्छे प्रेरक वक्ता बनने के लिए सबसे पहले जरूरी है एक अच्छा श्रोता बनना। यही नहीं इसके साथ ही साथ यह भी आपको जिस फील्ड का वक्ता बनना उसका अनुभव होना बेहद जरूरी है। तभी आप अपने विचार से लोगों की समस्या को दूर करने में मदद कर पाएंगे।

प्रश्न : आप अपनी बातों से दूसरे की समस्याओं का समाधान कैसे कर सकते हैं ?

उत्तर: मैं अपनी बातों को कहने से पहले लोगों की समस्या को ध्यान से सुनता हूं, समझता हूं, इसके बाद अपना अनुभव के जरिए व आध्यात्मिक ज्ञान से लोगों की मदद करने में सक्षम हो पाता हूं।

प्रश्न : आप लोगों को किस तरह मोटिवेशनल विचार देते हैं और क्यों ?

उत्तर: रवीकांत जी लोगों की समस्या को सुलझाने के लिए कई बार आध्यात्मिक विचार का सहारा लेते हैं। वहीं कुछ समस्या का समाधान वो अपने अनुभव व मोटिवेशनल कहानियों के जरिए ही दे देते हैं।

प्रश्न : क्या आपके सुझाव से किसी के जीवन में परिवर्तन आया है ?

उत्तर: रवीकांत जी के विचारों से अब तक कई लोगों का जीवन बदला है, ये बताते हैं कि कुछ लोग जो काफी समय से डिप्रेशन से जूझ रहे थें वो इनके दिए गए विचारों के बाद से अब एक नई जिंदगी की शुरूआत कर चुके हैं और बेहद खुश भी हैं। यही नहीं कुछ लोगों का जीवन अशांति से भरा था जिसे इन्होने अपने विचार से दूर किया इसके अलावा रिलेशनशिप से भी परेशान लोगों की मदद रवीकांत जी ने की है।

प्रश्न : असफलताओं का हमारे जीवन पर कितना गहरा प्रभाव पड़ता है ?

उत्तर: रवीकांत जी कहते हैं कि असफलता से हमें सीख लेनी चाहिए न की हारकर बैठ जाना चाहिए। हमेशा ही पॉजिटिव सोच रखना चाहिए और सही डायरेक्शन में चलते रहना चाहिए एक दिन सफलता जरूर मिलेगी क्योंकि सकारात्म सोच लक्ष्य प्राप्त करने में काफी मदद करते हैं।

प्रश्न : क्या खुद के चरित्र को पहचानने में मदद करता है मोटिवेशनल स्पीकर?

उत्तर: हां, चरित्र का मतलब होता है सोच, विचार, कर्म। इन तीनों चीज़ का सही मार्गदर्शन मोटिवेशनल स्पीकर करता है। इसलिए मोटिवेशनल स्पीकर की मदद से हम खुद के चरित्र को पहचान सकते हैं।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *