Read Home » हिंदी लेख पढ़ें » करियर » रेडियो जॉकी बनने का देख रहे हैं सपना, तो इस आलेख से मिलेगी मदद

रेडियो जॉकी बनने का देख रहे हैं सपना, तो इस आलेख से मिलेगी मदद

  • द्वारा
रेडियो जॉकी

हममें से हर कोई पढ़ाई के दौरान भविष्य में कुछ न कुछ बनने का सपना जरूर देखता है। हर किसी की दिलचस्पी अलग अलग होती है। पर आज हम आपको बताएंगे रेडियो जॉकी के बारे में जिसे लोग आरजे भी कहते हैं, जिसका सपना तो कई लोग देखते हैं लेकिन इसके बारे में कम लोगों को ही जानकारी होती है।

आपने अगर फिल्म ‘लगे रहो मुन्नाभाई’ देखी होगी तो उसमें आपने विद्या बालन की आवाज में गुड मार्निंग मुंबई कहते हुए तो जरूर सुना होगा। आप इससे ये समझ सकते हैं कि रेडियो जॉकी का काम कुछ ऐसा ही होता है जो अपनी आवाज के जादू से श्रोताओं को बांधे रखते हैं।

आज के समय में रेडियो में भी काफी बदलाव आ गया है, इस समय रेडियो सिर्फ सूचना का माध्यम नहीं बल्कि मनोरंजन का भी एक अच्छा माध्यम बन गया है। यही कारण है कि अब हर आरजे की जिम्मेदारी भी पहले से कई ज्यादा बढ़ गई है। अब रेडियो जॉकी लोगों को जानकारी भी इस अंदाज में देते हैं ताकि उनका भरपूर मनोरंजन भी हो सके। तो आइए इसके बारे में विस्तार से जानते हैं।

क्या होता है रेडियो जॉकी का काम

इस क्षेत्र के बारे में बाकी कुछ जानने से पहले ये जानना जरूरी है कि एक रेडियो जॉकी का काम क्या होता है? तो बता दें कि इनका काम सिर्फ रेडियो शो को प्रेजेंट करना ही नहीं होता बल्कि म्यूजिक प्रोग्रामिंग, पटकथा लेखन, रेडियो एडवरटाइजिंग करने से लेकर लेकर ऑडियो मैगजीन व डाक्यूमेंट्री भी पेश करने होता है। यही नहीं इनकी जॉब 9 से 5 वाली नहीं होती बल्कि इन्हें दिन या रात कभी भी शो होस्ट करना होता है। यही नहीं कई बार तो रेडियो जॉकी को न सिर्फ देश−विदेश में होने वाली गतिविधियों की जानकारी रखनी पड़ती है बल्कि उसे अपने शहर की सांस्कृतिक गतिविधियों के बारे में भी पता होना चाहिए ताकि वह अपने शो को और भी बेहतर व इंर्फोमेटिव बना सके। वैसे तो आरजे अपने शो से पहले स्क्रीप्ट लिखते हैं, लेकिन फिर भी आपको शो के दौरान जरूरत पड़ने पर उसे बदलने की कला उनमें होनी चाहिए। इसके लिए आपका स्पॉनटेनियस होना आवश्यक है।

यह भी पढ़ें :क्या फोटोग्राफी में करियर बन सकता है एक बेहतर विकल्प

रेडियो इंडस्ट्री में हुआ है विकास

वैसे ये कहना गलत नहीं है कि आज के समय में भारत की बड़ी इंडस्ट्री में से एक है। हालांकि रेडियो इंडस्ट्री काफी पुरानी है लेकिन फिर भी पिछले कुछ समय में इस क्षेत्र ने काफी तरक्की की है। इस समय देश में बहुत से रेडियो चैनल्स मौजूद हैं, जिन्हें लोगों द्वारा काफी सराहा जा रहा है। जिसके कारण रेडियो जॉकी भी लोगों के काफी प्रिय हो जाते हैं। रेडियो अब घरों से निकलकर लोगों के हाथों तक पहुंच गया है। लोग बसों में सफर करते हुए, कार चलाते हुए यहां तक कि पैदल चलते हुए भी रेडियो सुनना पसंद करते हैं।

रेडियो जॉकी बनने के लिए स्किल्स

अब बारी आती है स्किल्स की एक आरजे का न सिर्फ एक बेहतर वक्ता होना आवश्यक है बल्कि उसे हर स्थिति को अच्छे से हैंडल करना भी आना चाहिए। इसके अलावा अगर आपको आरजे बनना है तो आपके अंदर प्रेजेंटेशन स्किल भी बेहतर होना चाहिए इसके लिए आपका आत्मविश्वासी व हाजिर जवाब होना काफी आवश्यक है। आपकी आवाज प्रभावशाली होने के साथ ही साथ आपका उच्चारण बेहद साफ व आवाज पर नियंत्रण भी होना चाहिए। कब कितना अपनी आवाज में उतार चढ़ाव लाना है इसका ज्ञान अच्छे से होना चाहिए। एक आरजे को हर उम्र के लोगों को एंटरटेन करना होता है, इसलिए उसका बात करने का तरीका भी ऐसा होना चाहिए कि वह हर उम्र के लोगों को प्रभावित कर सके।

योग्यता

आरजे बनने के लिए हाई एजुकेशन की आवश्यकता नहीं है, इसके लिए आपके अंदर गुणों का होना जरूरी है। आप चाहे तो 12वीं के बाद आरजे बनने के लिए किसी भी संस्थान से डिग्री या डिप्लोमा कोर्स कर सकते हैं। फिर चाहे आप किसी भी स्टीम के छात्र हों। आज देश के हर राज्य में ऐसे बहुत से संस्थान हैं जो रेडियो जॉकी बनने के लिए प्रोफेशनल डिग्री व डिप्लोमा कोर्स कराते हैं।

आरजे व टीवी एंकर जुनैद खान से संपर्क करने के लिए यहां क्लिक करें

रेडियो जॉकी हो, एंकर हो, वॉयस ओवर आर्टिस्ट हो, डबिंग आर्टिस्ट हो, एक बेहतरीन युट्यूबर हो या फिर एक टीवी टेलीविज़न जर्नलिस्ट हो। ऐसे में आवाज का महत्व बढ़ जाता है, हर क्षेत्र की तरह इस क्षेत्र में भी एक प्रशिक्षक होता है आपके आवाज को प्रभावी बनाने का सही तरीका बताता है। इसलिए आपकी मदद के लिए हमारे नेटवर्क पर मौजूद हैं जुनैद खान। जो आपको एक सही मार्गदर्शन करेंगे। संपर्क करने के लिए यहां क्लिक करें।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *