Read Home » हिंदी लेख पढ़ें » कल्याण और आध्यात्मिकता » विवाह में आ रही है अड़चनें तो राशि के अनुसार जरूर कर लें ये उपाय

विवाह में आ रही है अड़चनें तो राशि के अनुसार जरूर कर लें ये उपाय

  • द्वारा
Astrology Remedy for delay in marriage

हमारे समाज में शादी को एक बेहद ही पवित्र बंधन माना जाता है, कहते हैं कि ये बंधन ऊपर वाला ही बनाकर भेजता है। ये रिश्ता न सिर्फ दो लोगों के बीच का होता है बल्कि दो परिवार भी इस बंधन की वजह से जुड़ते हैं। जब बच्चे अपनी पढ़ाई लिखाई पूरी कर सफल हो जाते हैं तो हर मां बाप के मन में बस उनकी शादी की चिंता सताने लगती है और वो प्रयास करते हैं कि विवाह की खातिर वो अपने बच्चे के लिए अच्छा जीवनसाथी खोजें।

पर कई बार ऐसा भी होता है कि हमारी कुंडली में दोष होने के कारण शादी विवाह में देरी हो जाती है या फिर ऐसा भी होता है कि बने बनाए रिश्ते टूट जाते हैं, कई सारी अड़चने भी आने लगती है। ऐसे में हमारे अभिभावक काफी चिंतित हो जाते हैं। इन समस्याओं से छुटकारा पाने के लिए कई सारे उपाय करते हैं, पंडितों से परामर्श लेते हैं काफी हवन, पूजा-पाठ करने के बावजूद भी उनकी शादी नहीं हो पाती।

इसलिए आज हम उन लोगों के लिए कुछ विशेष जानकारी देने जा रहे हैं जिनके विवाह में लगातार बाधाएं आ रही हैं और वो उन बाधाओं से परेशान हो चुके हैं। दरअसल ये बात तो सच है कि ज्योतिष शास्त्र में हर समस्या का समाधान बताया गया है लेकिन बस जरूरत होती है सही जानकारी की। आज हम आपको आपकी राशि के अनुसार कुछ ऐसे सरल उपाय बताएंगे जो आपके विवाह में उत्पन्न हो रही बाधाओं को दूर तो करेंगे ही इसके साथ ही साथ वो आपके लिए किसी वरदान से कम नहीं साबित होंगे।

ज्योतिष शास्त्र की मानें तो व्यक्ति के विवाह में देरी की वजह के लिए मंगल, शनि, सूर्य, राहू और केतु ग्रह जिम्मेदार होते हैं। कहा जाता है कि ये सभी ग्रह अगर किसी व्यक्ति की कुंडली में होते हैं तो उसकी शादी में तमाम अड़चनें आती हैं यही नहीं इसके अलावा उन लोगों के विवाह में भी समस्याएं उत्पन्न होती है जो व्यक्ति मांगलिक दोष से पीड़ित होते हैं। ज्योतिष विशेषज्ञों का कहना है कि ज्यादातर लोगों के जीवन में 27 साल के बाद विवाह के योग बनते हैं, इसलिए उस समय शुक्र और मंगल ग्रह यदि व्यक्ति की कुंडली इए सप्तम भाव में हो या फिर केतु या राहु सप्तम में हो तो विवाह में परेशानी होती है।

विवाह के लिए राशि के अनुसार करें ये उपाय

अब आइए जानते हैं कि आखिर राशि के अनुसार वो कौन से उपाय हैं जिन्हें करने से विवाह दोष दूर हो जाएंगे।

मेष राशि: सबसे पहले बात करते हैं मेष राशि वाले जातकों की जो कि अपनी कुंडली में चल रहे विवाह दोष से अगर मुक्ति पाना चाहते हैं तो इसके लिए उन्हें शिवालय में माता गौरी पर जो गुड़ चढ़ाया जाता है उसका सेवन प्रसाद के रूप में करें, ऐसा करने से ना केवल विवाह दोष दूर होगा बल्कि सेहत में भी सुधार आयेगा।

वृषभ राशि: अब बारी आती है वृषभ राशि वाले जातकों की, अगर आपके विवाह में भी देरी हो रही है तो आपको शिवालय में माता गौरी पर चढ़ा पीपल का पत्ता अपने पास रखना चाहिए। क्योंकि ऐसा करने से विवाह संबंधी सभी समस्याएं दूर हो जाएंगी।

मिथुन राशि : बात करें अगर मिथुन राशि के जातकों की तो इन्हें शिवालय में माता गौरी पर जलेबी चढ़ाकर छोटे बच्चों में बांटना चाहिए, कहा जाता है कि ऐसा करने से विवाह में आ रहे हर प्रकार के अड़चन खत्म हो जाते हैं।

कर्क राशि: वहीं कर्क राशि वाले जातकों को पीपल के पत्ते पर सिंदूर लगाकर मंगला गौरी को चढ़ाना चाहिए, कहा जाता है कि ऐसा करने से उन्हें हर तरह के कसान से बचाव होगा।

सिंह राशि: अब बात करते हैं सिंह राशि वालों की जिन्हें विवाह में उत्पन्न समस्या के लिए देवी मंगला गौरी पर लाल धागा चढ़ाना चाहिए, ऐसा करने से उन्हें सभी समस्याओं से छुटकारा मिलेगा।

कन्या राशि: कन्या राशि वाले जातकों के लिए विशेष रूप से इस मंत्र का जाप – “ॐ गौरी शंकराय नमः” करने को कहा गया है, कहा जाता है कि ऐसा करने न सिर्फ विवाह संबंधी समस्या बल्कि अन्य सभी बाधाओं से मुक्ति मिल जाएगी।

तुला राशि: इन जातकों को विशेषरूप से विवाह अड़चन से छुटकारा पाने के लिए मंगला गौरी पर मसूर के दाने चढ़ाकर अपने घर लाकर गल्ले में रखने को कहा गया है।

वृश्चिक राशि: वृश्चिक राशि वाले जातकों को शाम के समय पूजाघर में चमेली के तेल का दीपक जलाने के लिए बताया गया है जिससे उनके जीवन में आई सभी अड़चने दूर हो जाएंगी।

धनु राशि: इन जातकों को नियमित रूप से मंगला गौरी स्त्रोत्र का पाठ करने की मान्यता है क्योंकि इससे आपकी विवाह ही नहीं बल्कि लव लाइफ में चल रही बाधाएं दूर होंगी।

मकर राशि: इन जातकों को माँ गौरी पर लाल चुनरी चढ़ाने को कहा गया है, ऐसा करने से दाम्पत्य जीवन में आपार खुशियाँ आएगी।

कुंभ राशि: कुंभ राशि के जातक देवी माँ को सिन्दूर अर्पित करने को बताया गया है जो कि वैवाहिक जीवन का सबसे उत्तम मार्ग है।

मीन राशी : इन जातकों को मंगलवार के दिन देवी मंदिर में सिंदूर चढ़ाएं क्योंकि इससे आपका अमंगल दूर होगा।

पंडित श्री टी आर शास्त्री वैदिक ज्योतिष में 45 वर्षों के अनुभव के साथ जन्म कुंडली पढ़ने के विशेषज्ञ भी हैं। ऐसे में ये इस तरह की समस्याओं में आपकी मदद कर सकते है। विस्तृत जानकारी के लिए यहां क्लिक करें

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *